MY LIFE

मुझे याद है की सन 2014 मे आम आदमी जितना उत्साहित था उतना उत्साह अपनी लॉट्री निकलने पर भी नही होता होगा . यही उत्साह भारी वोट प्रतिशत मे बदलते हुए बीजेपी को भारतीय सत्ता के केन्द्र मे लाता है.शुरुआती एक से दो सालो मे जनता को लगा की शायद नई सरकार को कुछ करने मे कुछ समय लगे इसी करण जनता ने इन सालो मे सरकार का पूर्ण निष्ठा से साथ दिया . चाहे वो नोट बंदी हो या जी एस टी . जनता लाइन मे मरती रही पर सरकार के प्रति उसकी निष्ठा बरकरार रही . मुझे आजतक ए नही समझ मे आया की हमारे देश का कोई नेता मंत्री विधायक या अधिकारी इस लाइन मे क्यो नही था. खैर सरकार है जाने की हमारी अर्थव्यवस्था कितनी सुधरी और सरकार की कितनी कभी कभी लगता है की यदि जी एस टी, एफ डी आइ और आधार कार्ड सही था तो इसका सबसे ज्यादा विरोध मोदी जी ने किया था जब वो विपक्ष मे थे. दरअसल इनकी राजनीति मे क्या होता है की ए जनता को वही सुनाते है जो जनता सुनना चाहती है . ए पाकिस्तान का खुल कर विरोध करते है. पर सत्ता मिलते है अचानक से पाकिस्तान घूमते पहुच जाते है. ए गरीबो को 200-400 या जो भी हो सरकारी पेंशन या अन्य योजनाओ से पैसा खाते मे भेजते है , उन्ही खातो से न्यून्तम राशि न रखने पर पैसा काट लिया जाता है . शायद यही अच्छे दिन है.

pakouda

पकौड़े से अमेरिका के राष्ट्रपति तक

जबसे पकौड़ा सुर्खियो मे आया और एक बेहतर रोजगार की बात हमारे प्रधानमंत्री जी द्वारा कही गई तबसे इस व्यवसाय के प्रति मैं अपना आकर्षण रोक नही पाया . जब एक आम इंसान चाय बेचकर प्रधानमंत्री बन सकता है तो मुझे लगा पकौड़ा से शुरुआत करके तो में अमेरिका का राष्ट्रपति बन सकता हूँ .

 

 सर्वप्रथम तो मैं एक बेहतरीन नाम की तलाश करने लगा सारी रीसर्च खत्म हुई खुद के नाम से ही . लगा अभी नाम के अनुसार कुछ कमी है तो इसमे कमी कहा रहने वाली थी हमने भी इंटरनैशनल लगा लिया . तो बन गया रायजी इंटरनैशनल पकौड़ा स्टाल . अब जरूरत थी इसके लिये स्थान की तो हमने सोचा इंडिया गेट उपयुक्त रहेगा , हो सके तो हमारे प्रधानमंत्री यहा से गुजरे और कभी गोभी या प्याज के पकौड़े खाये और हमारे मां बाप की तरह ही उन्हे हमपर गर्व हो . और यही स्थान भविष्य मे चलकर रोजगार क्रांति का प्रतीक चिन्ह बने जिससे हमारे देश के युवा प्रेरणा ले सके . और हमारी प्रसिद्दि अमेरिका तक जा पहुचे और वहा के युवा पकौड़े पे चर्चा के लिये हमारे पास आने लगे और हम पूरे अमेरिका मे पकौड़े पे चर्चा करवा के एक दिन वहा के राष्ट्रपति बन जाये . फिर ,…………. फिर क्या फिर आप भी देखियेगा टेलीविजन पर हमको चाय और पकौड़े के साथ..पकौड़े से अमेरिका के राष्ट्रपति तक

COMMAN MAN IN INDIA TALKING

गाँव मे दो लोग आपस मे बात करते हुए. पहला -भैया ये मोदी और योगी का करत है आजकल, कुछ समझे मे नही आ रहा दूसरा – भैया समझ मे तो उनको भी नही आ रहा है देखे नही एक्के काम मे कितना स्टॅंड ले रहे है. पहला – हा भैया पर मोदी तो पूरा संसारे घूम लिये पर हम लोगो के बीच तो कब्बो नही आये , का गंगा मैया उनको अब नही बुला रही का दूसरा – नाही भैया जौने गंगा मैया के उ सॉफ करे के कहे रहे उ तो बांट जोहत जोहत थक गई अब हमनी के चुनाव के इंतजार कइल जा तब्बे उ मिलिहे पहला – भैया सुने रहे मोदी हम किसान के आय दुगना करे के सोचत हवे. पर ईहा त खाद, बिया,डीजल सबके दाम बढ गईल .

भैया ई फैक्ट्री के मालिक आपन समान के दाम खुद तय करत है. और हम दिन रात पसीना बहा के महन्गा खाद बिया दवाई डाल के फसल उगावत है और दाम सरकार तय करत है ,भैया ई कहा के इंसाफी ह . दूसरा – भैया ई इंसाफी ना सरकार राज ह . तब्बे त किसान आजतक गरीब ह . आत्महत्या करत ह . पर सरकार के का , सरकार त बस किसान खातिर योजना बनावेली और उहे टीवी पर दिखाकर जनता के उल्लू बनावल जाता, ईहा जमीन पर कहा काम होता. पहला – ठीके कहत हॅव भैया पर अगर किसान ही ना रही त ई पूरा देश के पेट कैसे भरी , दूसरा – अरे बुरबक पहले आपन पेट के देख , देश खातिर जब ई देश के नेता ना सोचत हवे त हम गरीब कहा से सोचल जा..